संजय मेहता ने की घर-घर से बात कार्यक्रम की शुरुआत

IMG-20191225-WA0052

  • अटल बिहारी वाजपेयी की जयंती पर किया नए सफर का आगाज
  • अभियान के तहत  जन भावनाओं का करेंगे संग्रहण

बरही/संवाददाता: आम आदमी पार्टी से बरही विधानसभा के प्रत्याशी रहे संजय मेहता ने घर-घर से बात अभियान की शुरुआत की। इस अभियान के तहत वे हर घर तक जाएंगे और जनता की समस्याओं से अवगत होंगे। हर घर तक जाकर जन भावनाओं का संग्रहण करेंगे और उसके निदान के लिए बातों को उचित पटल पर रखेंगे।

उन्होंने चुनाव परिणाम के तुरंत बाद कार्यक्रम की शुरुआत कर अपने अटल इरादों को जाहिर कर दिया है।

चौपारण से की शुरूआत

अभियान का प्रारंभ उन्होंने दैहर पंचायत के पत्थलगड्डा गांव से किया। इस दौरान गांव के चुरू भुईयां ने उन्हें बताया कि हमारे गांव में आज तक बिजली नहीं पहुंच पायी है। पीने के पानी का भी प्रबंध हमारे गांव में नहीं है। संजय ने ग्रामीणों से कहा कि आपकी समस्याओं को उचित पटल पर रखकर हम समाधान का प्रयास करेंगे।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जयंती पर की शुरुआत

उन्होंने अटल जी की जयंती के अवसर पर कार्यक्रम की शुरुआत की है। इस बाबत पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अटल जी ने सम्पूर्ण ग्रामीण विकास की परिकल्पना की थी। उन्होंने हमेशा दलगत राजनीति से ऊपर उठकर राष्ट्रधर्म की बात की है। उनके विचारों से प्रेरित होकर इस कार्यक्रम की शुरुआत की है.

क्या होगा अभियान के तहत

अभियान के तहत संजय मेहता हर घर घर जाएंगे। ग्रामीणों की समस्याओं को जानेंगे। उनसे बातचीत करेंगे। समस्याओं को उचित पटल पर रखेंगे। साथ ही हर पंचायत एवं गांवों की समस्याओं पर ध्यान केंद्रित कर उसके समाधान के लिए हर स्तर पर प्रयास करेंगे।

क्या कहते हैं संजय मेहता

संजय मेहता ने बताया कि आम जनों की समस्या एवं ग्रामीण समस्याओं के साथ एक बड़ी समस्या यह रही है कि समस्याएं उचित पटल पर पहुंच नहीं पाती है। उसका निदान भी नहीं हो पाता है। इसलिए यह आवश्यक है कि जनता की समस्याओं से अवगत होकर उसे उचित पटल पर रखा जाए। जनता की समस्याओं का समाधान हो सके इसलिए वे गांव गांव जा रहे हैं और लोगों से मिलकर घर आंगन में बैठकर समस्याओं पर बातचीत कर रहे हैंहैं।  समस्या का समाधान करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने नवनिर्वाचित विधायक अकेला यादव को निर्वाचित होने पर बधाई दी और आग्रह किया कि जनअकांक्षाओं को पूरा करने के लिए अपना सौ प्रतिशत योगदान दें।