संताल में भाजपा सांसदों की एक न चली

CKDIbQOUMAAMNKf

  • चार सांसद यहां कर रहे थे दौरा
  • संसद काल से छुट्टी मिलते ही पहुंच जाते थे इलाके में कसीदे पढ़ने
  • परिणाम निकला ढाक के तीन पात

देवघर/संवाददाता: झारखंड विधानसभा चुनाव में संताल परगना की धरती पर भाजपा के चार सांसदों ने खूब दौरा किया। इन से गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे, दुमका सांसद सुनील सोरेन, कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी और रांची सांसद संजय सेठ शामिल हैं। लेकिन इनका जीत के कसीदे पढ़ना, स्टार प्रचारक के तौर पर पेश आना, 65 पार और डबल इंजन की सरकार का दावा ठोकना किसी काम का नही रहा। इनमे से दो सांसद गोड्डा के निशिकांत दुबे और दुमका लोकसभा के सुनील सोरेन की अपनी जमीन है संताल परगना। फिर भी इनकी एक न चली।

गोड्डा सांसद के इलाके में जरमुंडी, सारठ, पोड़ैयाहाट, गोड्डा, महगामा, देवघर विधानसभा आते हैं। इनमे से मात्र सारठ और देवघर सीट ही भाजपा जीत पाई। एक सीट सारठ की माने तो रणधीर ने एक सवाल के जवाब में चुंनाव के ठीक पहले कहा था उनकी मदद करने भाजपा के कोई नेता आएं या न आएं रणधीर सिंह अपने दम पर चुनाव जीतेगा। हुआ भी यही, रणधीर सिंह के लिए चुंनाव प्रचार में न तो किसी सांसद और न ही पार्टी के बड़े स्टार प्रचारकों ने कोई दिलचस्पी दिखाई थी।

जरमुंडी के लिए सांसद निशिकांत दुबे ने बिशाल रैली निकाल कर पार्टी का शक्ति प्रदर्शन भी किया था। लेकिन पब्लिक की बादल दीवानगी में उनका यह फंदा काम नही आया। पोड़ैयाहाट पर उनका पूरा ध्यान रहा, गोड्डा में भी काफी दिलचस्पी दिखाई। यहां तक कि इन सीटों के लिए फेसबुक लाइव होकर भी अपनी बातें रखी। गोड्डा तो अमित मंडल जीत गए लेकिन पोड़ैयाहाट की चुनोती का सामना नही हो सका। एक सीट देवघर में उनकी चली औऱ भाजपा जीती।

दुमका सांसद सुनील सोरेन भी जरमुंडी, दुमका ओर जामा के लिए दिल खोलकर मेहनत की लेकिन यहां भी इनका फंडा महागंठबंधन के सामने कमजोर पड़ गया और तीनों सीट महागंठबंधन के पाले में ही चला गया। चुंनाव के ठीक दो दिन पहले कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी भी अपने समर्थकों के साथ सभी सीटों पर दौरा किया वे भी कमजोर पड़ीं। रांची के सांसद संजय सेठ ने भी स्टार प्रचारक बनकर पहुंचे थे। वो भी अपना ज्यादा कमाल नही दिखा पाए। एक बात की चर्चा है जरूर जब यहां के जमीन के सांसदों की नही चली तो फिर बाहर के नेताओं की बात जनता कैसे मानें। हुआ जो हुआ लेकिन जमीन पर यहां के लोकल सांसद भी अपने कसीदे “संताल परगना में भाजपा ने बहाई विकास की गंगा” को नही भुना पाएं।