एचएमसीएच में इलाज आभाव में ठंड लगे व्यक्ति की हुई मौत

एचएमसीएच में इलाज आभाव में ठंड लगे व्यक्ति की हुई मौत (1)

  • मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही के खिलाफ ग्रामीण हुए गोलबंद
  • मौके पर पहुंचे सदर विधायक मनीष जैसवाल , प्रभारी सुपरिटेंडेंट से मिलकर कहा व्यवस्था में आई है भारी गिरावट
  • जल्द करें सुधार अन्यथा हम जनप्रतिनिधियों को करना पड़ेगा हस्तक्षेप
  • हमने संघर्ष कर शून्य से बेहतरी पर अस्पताल को पंहुचाया था पुनः किसी भी हाल में शून्य पर नहीं आने देंगे: मनीष जैसवाल 

हज़ारीबाग/संवाददाता: हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल की स्थिति बदहाल होती जा रही है। प्रबंधन की अनदेखी के कारण यहां चिकित्सकीय लापरवाही इन दिनों चरम पर है। जिसका ताजा उदाहरण बुधवार को तब देखने को मिला जब सदर प्रखंड के ग्राम पंचायत गुरूहेत निवासी एक लाचार व बेबस व्यक्ति को ठंड लगने के कारण इलाज के लिए कुछ स्थानीय युवकों ने सहयोग कर यहां पंहुचाया ताकि इसकी जान बचाई जा सके। ठंड लगे  व्यक्ति का नाम रूपलाल यादव है। लेकिन यहां चिकित्सकों ने बगैर प्राथमिक उपचार किये सीधे वार्ड में शिफ्ट कर दिया। जहां करीब आधे घंटे  बाद तक उसे ना तो चादर दिया गया ना ही कम्बल और ना ही इलाज प्रारम्भ हुआ परिजनों के गुस्सा होने पर 15 मिनट बाद ऑक्सीजन का सिलेंडर लगाया गया। चिकित्सक द्वारा पर्ची में जो दवाई लिखा गया वो भी आसपास के दवा दुकानों में नहीं मिल पाया। ऐसे में एचएमसीएच में डॉक्टरों की लापरवाही व इलाज के अभाव में इस व्यक्ति की असमय मौत हो गई। जिसके बाद परिजन अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ गोलबंद हो गए। स्थानीय मुखिया महेश तिग्गा और सदर भाजयुमो मंडल अध्यक्ष शिवपाल यादव ने तत्काल इसकी सूचना सदर विधायक मनीष जायसवाल को दी। इसके बाद विधायक वहां पहुंचे और घटना की पूरी जानकारी लेने के बाद एचएमसीएच के प्रभारी सुपरिटेंडेंट डॉ ए के चौधरी से मुलाकात कर उनसे इस लापरवाही पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। जिसके बाद प्रभारी सुपरिटेंडेंट ने उन्हें आश्वस्त किया कि इस पर हम अपने स्तर से जांच-पड़ताल कर रहे हैं, लापरवाही हुई है तो कार्रवाई अवश्य होगी।

सदर विधायक मनीष जायसवाल ने कहा कि हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल के अपग्रेड होने से लोगों को बहुत उम्मीद थी कि यहां इलाज बेहतर होगा। लेकिन वर्तमान मेडिकल कॉलेज अस्पताल की स्थिति हमारे पूर्व के सदर अस्पताल से भी बदतर हो गई है। यह अस्पताल केवल रेफरल अस्पताल बनकर रह गया है। चिकित्सक और चिकित्सीय कर्मी अपने ड्यूटी में मनमानी करते हैं और प्रबंधन का इस पर किसी प्रकार की कोई कार्रवाई नहीं करती है।

मौके पर विशेषरूप से सदर विधायक के मीडिया प्रतिनिधि रंजन चौधरी के अलावे जगदीश यादव, प्रदीप यादव, सुनील यादव, राजेश यादव, प्रकाश यादव, पिंटू यादव, अबोध यादव, सरयू यादव, गोपाल यादव, संजय यादव, दिलीप यादव, राजा यादव, अनिल यादव, मनोज यादव सहित दर्जनों ग्रामीण- महिला पुरुष मौजूद रहे।