जान देने वाला हज़ारीबाग का एचएमसीएच बना जानलेवा

एचएमसीएच में बाहर के लैब से कराया जा रहा है जांच

परिजनों ने चिकित्सको पर लगाया लापरवाही का आरोप

हजारीबाग शहर के बीचोबीच स्थित हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल को जान बचाने के लिए अपग्रेड किया जा रहा था वही अस्पताल जानलेवा बन गया है। गुरुवार को एचएमसीएच के महिला मेडिकल वार्ड में फिर एक महिला की मौत होने का मामला प्रकाश में आया है। महिला कटकमसांडी प्रखंड के गांव निवासी ज्योति कक्षक पति विजय टोप्पो की मौत हो गई है। परिजनों ने चिकित्सकों पर लापरवाही करने का आरोप लगाया है। मृतक के परिजन ग्रुप बनती खालको से पूछे जाने पर बताया कि मरीज को गुरुवार दोपहर 2:45 में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद अस्पताल के ही नर्स ने एचएमसीएच के बाहर से लैब के टेक्नीशियन को 1600 रुपए में खून जांच के लिए बुलाया गया। जिसमें परिजनों ने टेक्नीशियन को 1200 रुपए दिए थे बाकी के 400 रुपए रिपोर्ट मिलने के बाद देना था। डॉक्टर के देखे जाने के बाद नर्स द्वारा 3:10 में उसे तीन चार इंजेक्शन लगाया गया। इंजेक्शन लगाते ही मरीज की मौत तुरंत हो गई। बता दें कि मंगलवार वह बुधवार को भी एक-एक मरीजों की मौत हुई थी ।