स्वास्थ्य सामग्री के आभाव में  पारिवारिक सर्वेक्षण में सहियाओं को सता रहा है कोरोना संक्रमण का डर

स्वास्थ्य सामग्री के आभाव में  पारिवारिक सर्वेक्षण में सहियाओं को

मिर्जापुर/संवाददाता: उधवा प्रखंड के स्वास्थ्य साहिया को स्वास्थ्य सामग्री के अभाव में कोरोना संक्रमण के बीच पारिवारिक सर्वेक्षण में कोरोना संक्रमित होने का भय सताने लगा है। राधानगर के स्वास्थ्य साहियायों का कहना है कि लाॅकडाउन के बाद यहां बड़ी संख्या प्रवासी मजदूरों का आगमन हुआ है। सभी साहिया को पारिवारिक सर्वेक्षण का जिम्मेदारी दी गई है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के द्वारा सुरक्षा हेतु मास्क, ग्लब्स तथा सेनिटाइजर नहीं दिया गया है।

पंचायत में कुल दस स्वास्थ्य साहिया हैं। सरिता देवी, देवी कुमारी, टोटोन कुमारी, बन्दना देवी, नमिता कुमारी यादव, संध्या रानी घोष, अंजना घोष, चंदना सरकार, रासेदा खातून व मामुनि देवी का कहना है कि कोरोना वायरस को लेकर जो भी विभाग द्वारा आदेश दिया जाता है। उस पर काम करने के लिए हम सभी साहिया तत्पर हैं। चार अप्रैल को वीटीटी शीला गोस्वामी के द्वारा आदेश दिया गया था कि सभी साहिया अपने पोषक क्षेत्र में प्रतिदिन सभी का घर जाकर परिवार से उसका डाटा लेना है। जिसमें कहा गया है कि उक्त परिवार के कौन-कौन सदस्य को सर्दी, खांसी, जुकाम जैसे परेशानी हो रही है। उक्त डाटा को प्रतिदिन वीटीटी को देना है।

पिछले कई दिनों से परिवार का डाटा तो विभाग को दी जा रही हैं, लेकिन काफी भयभीत होकर काम करना पड़ रहा है। सभी ने स्वास्थ्य विभाग से आग्रह किया है कि मास्क, हैंड ग्लब्स ,सेनिटाइजर उपलब्ध कराया जाए। जिससे निडर होकर काम किया जा सके।

जबकि जिला के उपायुक्त वरुण रंजन ने जानकारी देते हुए बताया है कि जिले में स्वास्थ्य सम्बंधित जरूरतों एवं स्वास्थ्य कर्मियों के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। जिले में जरूरत की सभी स्वास्थ्य सामग्री प्रयाप्त संख्या में उपलब्ध है। जिले में स्वास्थ्य कर्मियों के लिए 1023 पीपीई किट, डॉक्टर्स के लिए 417 एन-95 मास्क, फ्रंट लाइन वर्कर्स के लिए 21000 ट्रिपल लेयर मास्क, 22000 सर्जिकल ग्लव्स, उपलब्ध है।

अनुमंडलीय अस्पताल राजमहल के चिकित्सा प्रभारी संजय कुमार ने बताया कि बीटीटी को मास्क, ग्लब्स व सैनीटाइजर वितरण करने के लिए दे दिया गया है। जल्द स्वास्थ्य साहिया को दे दिया जाएगा।