इंसानियत की मिसाल पेश कर रहे है हज़ारीबाग के बाबू खान

हजारीबाग : इंसानियत ही बढ़कर कोई जात धर्म नही होता जिसका मिसाल पेश करते हुए हज़ारीबाग भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व जिलाध्यक्ष सह समाजसेवी तलत शब्बीर उर्फ बाबू खान अपनी जिंदगी में यही संदेश आत्मसात कर लाकडाउन अवधि में जरूरतमंदों की सेवा में जी जान से जुटे हुए हैं। वे सपरिवार वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण हुए लॉक डाउन में गरीब, असहाय, भूखों के लिए मसीहा बनकर मदद कर रहे हैं। तलत शब्बीर कहते हैं कि लॉक डाउन होने के बाद जिस जरूरतमंद को राशन की सामग्री की जरूरत होती है उस व्यक्ति तक पहुंच जाता हूँ, अब यही मेरा लक्ष्य है की लॉक डाउन के दरम्यान कोई भूखा न रहे । ये जो कुछ भी मैं कर रहा हूँ न पार्टी और न मुझे किसी संस्था जो कुछ भी के रहा हूँ अपने परिवार के साथ मिलकर कर रहा हूँ और आगे भी करता रहूंगा