उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक ने क्वारेंटीन सेंटर का किया निरीक्षण

क्वारेंटीन सेंटर का निरीक्षण करते उपायुक्त

संवाददाता: प्रेम कुमार (साहिबगंज)

साहिबगंज: कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए जिला प्रशासन एक ओर कई ठोस कदम उठा रही है, तो दूरसी तरफ़ बाहर से आने वाले प्रवासी श्रमिकों के लिए मेडिकल व्यवस्था, खाने पीने रहने, साफ सफायी एवं उन्हें घर पहुंचाने की जिम्म्मेवारी जैसी चुनौतियों का भी सामना कर रही है। जिला प्रशासन ग्रीन तथा ऑरेंज ज़ोन से आ रहे श्रमिकों होम कोरेंटिंन कर रही एवं रेड ज़ोन से आये लोगों को सरकार के कोरेंटिंन में रखा जा रहा है।

रविवार को उपायुक्त वरुण रंजन तथा पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा ने राजमहल तथा उधवा के क्वारेंटीन केंद्रों का निरीक्षण किया। उपायुक्त वरुण रंजन के नेतृत्व में राजमहल प्रखंड के चौंका ग्राम स्थित मॉडल हाई स्कूल तथा उधवा क्वारेंटीन सेंटर एवं शिवगाडी क्वारेंटीन सेंटर का निरीक्षण किया निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त ने सेंटर में रह रहे लोगों से उनके वार्डों में जाकर मुलाकात की तथा उनका हालचाल लिया। साथ ही केंद्र पर प्रदान की जा रही है। सुरक्षा व्यवस्था तथा सुविधाओं का जायजा भी उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक ने लिया। ज्ञात हो कि लॉक डाउन के कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव हेतु पूरे जिले में क्वारेंटीन सेंटर प्रखंड तथा पंचायत स्तर पर बनाए गए हैं, जहां पर संदिग्ध तथा जिले से बाहर से आने वाले लोगों को क्वारेंटीन किया गया है ताकि उनका बेहतर तरीके से रखरखाव किया जा सके।

उपायुक्त श्री रंजन ने निरीक्षण के दौरान केंद्र संचालक एवं प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी उचित दिशा निर्देश भी दिए। निरीक्षण के क्रम में उपायुक्त वरुण रंजन तथा पुलिस अधीक्षक ने क्वारेंटीन में रह रहे लोगों का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि वह रेड ज़ोन से आये हैं ,इसलिये उन्हें कोरेंटिंन में रखा जाना आवश्यक है। उपायुक्त श्री रंजन ने लोगों से कहा कि वह सामाजिक दूरी बना कर एवं अनुशाषित होकर क्वारेंटीन अवधि का पालन करें ताकी इससे सभी लोग आराम से रह सकें एव केंद्र में एक सकारत्मक माहौल भी बन सके।

उपायुक्त वरुण रंजन ने क्वारेंटीन केंद्र में वहां रह रहे लोगों से मिल कर कहा कि उनका क्वारेंटीन अवधि तक यहां रहना न सिर्फ उनके बल्कि उनके परिवार एवं सामज के लिए भी सुरक्षा की दृष्टि से बेहद आवश्यक है। उपायुक्त वरुण रंजन तथा पुलिस अधीक्षक ने क्वारेंटीन अवधि में रह रहे लोगों से कहा कि वह अनुशासन का सख्ती से पालन करें तथा किसी भी प्रकार का अवांछित कार्य न करें। उन्होने कहा की इस 14 से 16 दिन की अवधि में आप रहे आपको उपलब्ध कराए गए खेलों का आनंद लें तथा आपको खाने की अन्य ससुविद्याएँ भी दी जाएंगी। इस स्थिति में घबराएं नहीं न ही घर वालों से मिलने की जल्दी दिखाएं तथा कुछ समय पश्चात उन्हें उनके घर के लिए रवाना कर दिया जाएगा।

मौके पर उप विकास आयुक्त मनोहर मराण्डी, राजमहल अनुमंडल पदाधिकारी कर्ण सत्यार्थी, श्रम अधीक्षक संजय आनंद, प्रखंड विकास पदाधिकारी उधवा राजेश एक्का आदि उपस्थित थे।