पुलिस के बढ़ते दबिश से बौखलाए अपहरणकर्ताओं ने की व्यवसाई अरुण साह की हत्या

  • मुँह में पट्टी बांध गोली मारकर लाश को मैदान में फेंका

साहिबगंज/संवाददाता: 20 जून को अगवा किए गए बोरियो के व्यवसायी अरुण साह को आखिरकार अपहरणकर्ताओं ने आठ दिन बाद गोली मारकर हत्या कर दी। हत्या के बाद लाश को बोरियो थाना क्षेत्र के छोटा बरमसिया और छोटा वायसा के बीच एक मैदान में फेंक दिया। बताया जाता है कि पुलिस के बढ़ते दबिश एवं फिरौती की मांग के पैसे ना मिलने के कारण ही व्यवसाई की हत्या कर दी गई। बताते चले कि बोरियो थाना क्षेत्र अंतर्गत मोती पहाड़ी निवासी पुतुल देवी ने अपने पति अरुण साहा के अपहरण हो जाने की लिखित शिकायत बोरियो थाना में 21 जून को की थी। अगुवा अरुण साह की सकुशल बरामदगी को लेकर साहिबगंज पुलिस कप्तान के निर्देश पर एक टीम का गठन किया था और एसडीपीओ आशीष विजय कुजूर  बोरियो थाना में कैंप लगाकर बरहेट, बोरियो, तालझारी थाना क्षेत्र में सर्च अभियान चला रहे थे। अपराधियों तक पहुंचने के लिए मोबाइल लोकेशन ट्रेसिंग के आधार पर पुलिस लगातार अभियान चला रही थी और छापेमारी कर रही थी। लेकिन अपराधी इतने शातिर था कि बार-बार वह अपना जगह बदल रहे थे। पुलिस की बढ़ती दबिश से बौखलाए अपराधियों ने बीते रात अनाज व्यवसाई को गोली मार कर दी। 

पुलिसिया सर्च ऑपरेशन के दरमियान अपराधियों ने चलाई थी गोली

शनिवार 27 जून को पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी की बरहेट थाना क्षेत्र के लुट्टूघुटु में अपहरणकर्ता छिपे हुए हैं। जिसपर बोरियो थाना और बरहेट थाना के पुलिस संयुक्त रूप से सादे लिवास में छापेमारी करने के लिए निकल पड़े। छापेमारी के दौरान एक अपराधी बोड़बांध के तरफ भागने लगा था पुलिस भी पीछे भाग रहे थे। लेकिन पहले से मौजूद और तीन अपराधी ने पुलिस पर फायरिंग कर दी जब तक पुलिस कुछ समझ पाती तब तक बरहेट थाना के एएसआई चंद्राय सोरेन को पेट में गोली लग गई थी एवं बरहेट थाना के थाना प्रभारी हरीश पाठक  भी घायल हो गए थे। एएसआई को बेहतर इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से रांची के रिम्स अस्पताल ले जाया गया।

मृतक के पिता को भी 2011 में अपहरण करने के बाद की गई थी हत्या

अपहरण हुए मृतक अरुण कुमार सहा के पिता कुलेश्वर साह की हत्या भी बीते वर्ष 2011 में गोली मारकर की गई थी। वह भी अनाज की खरीद बिक्री करते थे। लेवी की मांग को लेकर उनकी भी हत्या की गई थी। वही परिवार में मृतक अरुण कुमार साह दो भाइयों में से घर में सबसे बड़े थे। छोटा भाई मिथुन कुमार साह की बोरियों बाजार में मोबाइल रिपेयरिंग की दुकान है और मृतक अरुण कुमार सहा की तीन बच्चे हैं। दो बेटी-एक बेटा। बड़ी बेटी प्रियंका कुमारी शिबू सोरेन इंटर कॉलेज बोरियो इंटर में पढ़ती है, दूसरी बेटी निशु कुमारी बोरियो कस्तूरबा में पढ़ती है एवं बेटा मोती पहाड़ी स्कूल में पढ़ता है। घटना के बाद परिजनों में मातम चाय हुआ है।

क्या कहते हैं साहिबगंज पुलिस अधीक्षक?

साहिबगंज पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा ने कहा कि मामले में संलिप्त गिरोह तथा उनके सदस्यों को चिन्हित कर लिया गया है। अपराधियों  के पुराने रिकॉर्ड को खंगाला जा रहा है। जल्द ही अपराधी पुलिस के गिरफ्त में होगा।